Hard Disk Ki Puri Jankari or Types of Hard Disk

Share:
Computer या laptop में स्टोरेज के लिए इस्तेमाल होने वाली प्रमुख इकाई को ही hard disk कहते है और पूरे computer device में ये ही एक ऐसा पार्ट है जिसमे सबसे ज्यादा बिजली की खपत होती है और कारण है इसके अंदर लगी मैग्नेटिक डिस्क का तेजी से घूमना जो करीब 7000 RPM की गति से घूमती है और इसी डिस्क को hard disk drive कहते है. Hard disk एक ऐसा डिवाइस है जो आप के डेटा को स्टोर करता है, बेसिकली hard drives Storage डिवाइस होते है. IBM के दवारा 1956 के लॉंच किया गया Hard disk 1960 तक लोगो का मन पसंद सेकेंडरी storage device बन गया था. हार्ड डिस्क मे डेटा Electromagnetically रेकॉर्ड होता है. 
Hard disk को सब से पहले 1956 data storage की तरह IBM रियल टाइम ट्रांजेकसन कोम्पुटर में यूज़ किया गया. इसके कुछ समय बाद इससे जनरल पर्पस के लिए मिनिकंप्यूटर और mainframe के लिए डेवलप किया गया. IBM के दवारा बनाया गया पहला Hard Drive का साइज़ 5 medium Fridge के बराबर था. और ये ड्राइव 5 मिलियन six-bit character store कर सकते थे वो भी 50 disk के ढेर मे. दोस्तों 1956 की हार्डडिस्क कैसी थी आप निचे इमेज में देख सकते हो.

computer harddisk kya hai

1962 मे IBM ने अपना नया Hard drive model introduce किया ये मॉडेल था 1311. इसका साइज़ एक वॉशिंग मशीन के बराबर था और ये हार्ड ड्राइव 2 million character store करता था. हार्ड ड्राइव के यूज़र अगर चाहते तो और पॅक्स खरीद सकते थे और अपने ज़रूरत के अनुसार आपस मे बदल सकते थे. इसके बाद बनाए गये सभी हार्डड्राइव कंप्यूटर मे यूज़ होने लगे और 1980 तक इनकी केपॅसिटी 300 megabytes तक पहुच गयी.

1980 में IBM ने उसमे सुधार कर एक नयी hard disk बनायीं जिसकी storage capacity तो पहले के मुकाबले बहुत अधिक (करीब 2.5 GB से अधिक ) थी लेकिन फिर भी वजन और परिमाप में वो बहुत बड़ी थी. उसका वजन करीब 250 KG और size किसी फ्रिज के बराबर का था.

दोस्तो HDD /Memory card/जैसे Data Store करने वाले हार्डवेर को byte मे गिना जाता है जैसे की

• 1024 byte   1 KB (Kilo Byte)
• 1024 KB    1 MB (Mega Byte)
• 1024 MB   1 GB (Giga Byte)
• 1024 GB    1 TB  (Tera byte)

Digital media मे डेटा को इन byte के आधार पर गिना जाता है पर एक बात हमेशा याद रखो की जिस तरह 1Gb या 2GB कहा जाता है! उनमे से पूरी स्पेस हम इस्तेमाल नही कर सकती है उनमे से कुछ स्पेस पहले से किसी और मकसद के लिए रिज़र्व होती है !ये ही कारण है की जबही हम  700GB की HDD यूज़ करते है तब बो 698 GB ही शो करती है.

अगर हम Hard drive की 3 सब से इंपॉर्टेंट पार्ट्स के बारे मे बात करे तो उसमे platters पहले रॅंक पे आएगा ये एक बहुत इंपॉर्टेंट पार्ट है. Platters circular disk होती है हार्ड ड्राइव के अंदर, इनको ग्लास या अल्यूमिनियम ये बनाया जाता है permanenly data store करने के लिए. दूसरे नंबर पर Read/Write आर्म आएगा, ये read/write heads के मूव्मेंट्स को कंट्रोल करते है. Read/write arm के बाद हम 3rd रंक पे Actuator को रखेंगे, Actuator एक छोटे साइज़ का मोटर होता है जो ड्राइव सर्किट बोर्ड से इन्स्ट्रक्षन्स लेता है read/write आर्म के मूव्मेंट को कंट्रोल करने के लिए.

हार्ड डिस्क के प्रकार - Hard Disk Ke Types

1. IDE (Intregrated Drive Electronic)

IDE derives को PATA के नाम से भे जाना जाता है इसका फुल फॉर्म होता है parallel Advance technology attachment. IDE PATA drives मे 40 pins होते है, और ये 8 bit data एक बार मे सेंड करता है. IDE pata drives आप को 133 MB / पर सेकेंड रेट ट्रान्स्फर करने की suvida देता है. आप एक PATA केबल मे दो अलग अलग केबल कनेक्ट कर सकते है वो दोनो केबल अलग अलग नाम से जाने जाते है एक को हम master बोलते है तो दूसरे को हम slave बोलते है.

2. SATA (Serial Advance Technology Attachment Drive)

इस ड्राइव में 7 पिन होती है, जिसमे से 4 पिन 2 जोड़े में काम करती है और फाइल को भेजने और पाने में मदद करती है. जबकि बची हुई 3 पिन नीचे ही रहती है. SATA ड्राइव हर सेकंड में 300 MB  तक के डाटा को ट्रान्सफर कर सकती है. ये डाटा को बिट के बाद बिट के तरीके से भेजती है. SATA केबल को SATA हार्ड डिस्क को जोड़ने में इस्तेमाल किया जाता है. इसमें केवल एक ही ड्राइव को जोड़ा जा सकता है.

3. SCSI (Small computer system interface drive)

SCSI को अमेरिकन नॅशनल स्टॅंडर्ड इन्स्टिट्यूट (ANSI) इसके प्रिंटर, स्कॅनर्स और डिस्क ड्राइव को कंप्यूटर को attact6 करने के लिए बनाया गया. इसका पहला version 8-bit का version था जो की 5mbps तक भेज सकता था. SCSI Drives मे usually 50 से 60 pins होते थे. और ये 640 MB पेर सेकेंड ट्रान्स्फर कर सकता था. एक SCSI केबल मिनिमम 16 drives को कनेक्ट कर सकता था.

4. SAS (Serial Attached SCSI Drive)

इसमें ज्यादातर 805 MB डाटा को हर सेकंड भेजने की क्षमता होती है. इसकी केबल के साथ हम ज्यादा से ज्यादा 128 ड्राइव जोड़ सकते है.

एक्सटर्नल हार्डडिस्क क्या है - External Hard Disk Kya Hai

दोस्तो External HDD उन हार्ड-डिस्क को कहते है. जिसे हम आपने साथ कही भी ले जा सकते है .जैसे की पेन ड्राइव और लॅपटॉप पोर्टबल होते है उसी तरह External HDD भी पोर्टबल डिवाइसस होती, जिसे हम कंप्यूटर या लॅपटॉप के USB port को कनेक्ट कर के कही भी इस्तीमल कर सकते है.

SSD Kya Hai

हार्ड डिस्क में disk घूमती है, लेकिन SSD में चिप होती है, इसमें कोई भी drive नहीं घूमती. किसी physical घूमने वाली drive न होने की वजह से SSD यानि की Solid State Drive की speed HDD की speed से कई गुना ज्यादा होती है. लेकिन प्रॉब्लमये है की SSD अपने इंटरनल बनावट की वजह से बोहोत महँगी होती है. SSD चलने के लिए बहोत कम पावर लेती है और फ़ास्ट होती है. इस वजह से आजकल की सभी ultra-books में SSD लगी आती है. जैसे की Apple के Mac-book Air में SSD integrated होकर पहले से ही आती है.

दोस्तो आज हमने जाना की हार्डडिस्क क्या है, हार्डडिस्क के प्रकार और हार्डडिस्क की पूरी जानकारीअगर आपको ये पोस्ट पसंद आये तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे.

No comments